लेबल

शुक्रवार, 21 मई 2021

एक गीत -मेड़ों पर वसन्त

 

चित्र -साभार गूगल 
एक गीत -मेड़ों पर वसन्त 
लोकरंग 
में वंशी लेकर 
गीत सुनाता है |
मेड़ों पर 
वसन्त का 
मौसम स्वप्न सजाता है |

सुबह -सुबह
उठकर आँखों 
का काजल मलता  है ,
संध्याओं को 
जुगनू बनकर 
घर -घर जलता है ,
नदियों के 
जूड़े -तितली 
के पंख सजाता है |

हल्दी के 
छापे -कोहबर
में रंग इसी का है ,,
कोई भी 
हो फूल 
फूल में रंग इसी का है ,
आँखों की 
भाषा पढ़ने का 
हुनर सिखाता है |

पीला कुर्ता 
पहने सूरज 
डूबे झीलों में ,
यादों की 
खुशबू फैली है 
कोसों -मीलों में ,
यह जीवन 
का सबसे  
अच्छा राग सुनाता है |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 
चित्र -साभार गूगल 







शुक्रवार, 7 मई 2021

एक गीत -फिर गुलाबी फूल -कलियों से लदेंगी नग्न शाखें



चित्र -साभार गूगल 
एक गीत -
फिर गुलाबी फूल ,कलियों से लदेंगी  नग्न शाखें 

फिर  गुलाबी 
फूल ,कलियों से
लदेंगी  नग्न शाखें   |
पर हमारे 
बीच होंगी नहीं 
परिचित कई आँखें |

यह अराजक 
समय ,मौसम 
भूल जाएगा जमाना ,
फिर किताबों में 
पढ़ेंगे गाँव का 
मंज़र  सुहाना ,
देखकर 
हम मौन होंगे 
तितलियों की कटी पाँखेँ |

झील में 
खिलते कंवल,  
मछली नदी में जाल होंगे ,
नहीं होगा 
स्वर तुम्हारा 
साज सब करताल होंगे ,
गाल पर रूमाल 
होंगे 
डबडबाई हुई आँखें |

ज्ञान और विज्ञान 
का सब दम्भ 
कैसे है पराजित ,
प्रकृति के 
उपहास का यह 
लग रहा  परिणाम किंचित ,
अब घरों की 
खिड़कियाँ हैं 
जेल की जैसे सलाखें |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 

बुधवार, 5 मई 2021

एक गीत -दिन लौटें मुस्कानों वाले

 

चित्र -साभार गूगल 

एक गीत -दिन लौटें मुस्कानों वाले 

डायन सी रातें 
दिन सहमे 
मौसम भी तूफानों वाले |
कोई पाती 
लिखे प्रेम की  
दिन लौटें मुस्कानों वाले |

पर्वत ,टीलों 
नदी ,पठारों 
शहरों में पसरा सन्नाटा ,
गंध न कोई 
फूल शाख पर 
जगह -जगह सेही का काँटा ,
शुभ -मंगल 
के शब्द नदारद 
जुमले सबके तानों वाले |

सुनों सुनयने !
आज नींद में 
आँखों को भर लो सपनों से ,
सबका ख़ैर 
कुशलता पूछो 
आज पराये और अपनों से ,
पियराये मुख 
चाँदनियों के 
ग्रह -नक्षत्र शैतानों वाले |

काशी ,वृन्दावन  
कौसानी 
हँसो पहाड़ों वाली रानी ,
हरियाली 
का गीत सुनाओ 
उतरो मेघों बरसो पानी ,
हरे नीम 
निबकौड़ी वाले 
सूखे पत्ते पानों वाले |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 
चित्र -साभार गूगल