लेबल

शनिवार, 23 मार्च 2013

हिंदी साहित्य और छायावाद की दीपशिखा -कवयित्री महादेवी वर्मा और उनकी कविताएँ

कवयित्री -महादेवी वर्मा रामजी पाण्डेय की पत्नी ,बेटी आरती मालवीय के साथ 
यह मन्दिर का दीप ....
इसे नीरव जलने दो ----महादेवी वर्मा 
महदेवी के साथ महाप्राण निराला की दुर्लभ फोटो दायें से प्रथम निराला उनके बगल में
महादेवी वर्मा 
महादेवी वर्मा के जन्मदिन होली पर विशेष प्रस्तुति 
छायावाद की महान कवयित्री महादेवी वर्मा और उनका रचना संसार 
एक 
.यह मन्दिर का दीप ..
यह मन्दिर का दीप इसे नीरव जलने दो !

रजत शंख -घड़ियाल स्वर्ण वंशी -वीणा -स्वर 
गये आरती बेला को शत -शत लय से भर 
जब था कलकंठों का मेला 
विहँसे उपल तिमिर था खेला 
अब मन्दिर में इष्ट अकेला 
इसे अजिर का शून्य गलाने को गलने दो !

चरणों से चिन्हित अलिन्द की भूमि सुनहली 
प्रणत शिरों के अंक लिए चंदन की दहली 
झरे सुमन बिखरे अक्षत सित 
धूप -अर्ध्य नैवेद्य अपरिमित 
तम में सब होंगे अन्तर्हित 
सब की अर्चित कथा इसी लौ में पलने दो !

पलके मनके फेर पुजारी विश्व सो गया 
प्रतिध्वनि का इतिहास प्रस्तरों बीच खो गया 
सांसों की समाधि सा जीवन 
मणि सागर सा पंथ बन गया 
रुका मुखर कण -कण का स्पन्दन 
इस ज्वाला में प्राण -रूप फिर से ढलने दो !

झंझा है दिग्भ्रान्त रात की मूर्च्छा गहरी 
आज पुजारी बने ,ज्योति का यह लघु प्रहरी 
जब तक लौटे दिन की हलचल 
तब तक यह जागेगा प्रतिपल 
रेखाओं में भर आभा -जल 
दूत साँझ का इसे प्रभाती तक चलने दो !
यह मन्दिर का दीप इसे नीरव जलने दो !
दो 
पंथ होने दो अपरिचित 
पंथ होने दो अपरिचित प्राण रहने दो अकेला 

घेर ले छाया अमा बन 
आज कज्जल -अश्रुओं में रिमझिमा ले यह घिरा घन 
और होंगे नयन सूखे 
तिल बुझे औ 'पलक रूखे 
आर्द्र चितवन में यहाँ 
शत विद्युतों में दीप खेला !
पंथ होने दो अपरिचित प्राण रहने दो अकेला !

अन्य होंगे चरण हारे 
और हैं जो लौटते ,दे शूल को संकल्प सारे 
दुःखव्रती निर्माण उन्मद 
यह अमरता नापते पद 
बांध देंगे अंक -संसृति 
से तिमिर में स्वर्ण बेला !

दूसरी होगी कहानी 
शून्य में जिसके मिटे स्वर ,धूलि में खोयी निशानी 
आज जिस पर प्रलय विस्मित 
मैं लगाती चल रही नित 
मोतियों की हाट औ '
चिनगारियों का एक मेला !

हास का मधु-दूत भेजो 
रोष की भ्रू -भंगिमा पतझार को चाहो सहेजो !
ले मिलेगा उर अचंचल 
वेदना -जल ,स्वप्न शतदल 
जान लो यह मिलन एकाकी 
विरह में है अकेला !

पंथ होने दो अपरिचित प्राण रहने दो अकेला
तीन 
रूपसि तेरा घन केश -पाश !
श्यामल श्यामल कोमल कोमल ,
लहराता सुरभित केश -पाश !

नभ -गंगा की रजत धार में ,
धो आयी क्या इन्हें रात ?
कम्पित हैं तेरे सजल अंग ,
सिहरा सा तन है सद्यस्नात !
भींगी अलकों के छोरों से 
चूतीं बूंदे कर विविध लास !
रूपसि तेरा घन -केश -पाश !

सौरभ भीना झीना गीला 
लिपटा मृदु अंजन सा दुकूल ,
चल अंचल से झर -झर झरते 
पथ में जुगनू के स्वर्ण फूल :
दीपक से देता बार -बार 
तेरा उज्ज्वल चितवन विलास !
रूपसि तेरा घन -केश -पाश !

उच्छ्वसित वक्ष पर चंचल है 
वक पोतों का अरविन्द हार :
तेरी निश्वासें छू भू को 
बन बन जातीं मलयज बयार :
केकी रव की नूपुर -ध्वनि सुन 
जगती जगती की मूक प्यास 
रूपसि तेरा घन -केश -पाश !

इन स्निग्ध लटों से छा दे तन 
पुलकित अंकों में भर विशाल :
झुक सस्मित शीतल चुम्बन से 
अंकित कर इसका मृदुल भाल :
दुलरा दे ना बहला दे ना 
यह तेरा शिशु जग है उदास !
रूपसि तेरा घन -केश -पाश !
चार 
मैं बनी मधुमास आली !
आज मधुर विषाद की घिर करुण आयी यामिनी :
बरस सुधि के इन्दु से छिटकी पुलक की चाँदनी 
उमड़ आयी री दृगों में 
सजनि कालिन्दी निराली !

रजत -स्वप्नों में उदित अपलक विरल तारावली :
जाग सुख -पिक ने अचानक मदिर पंचम तान ली :
बह चली निश्वास की मृदु 
वात मलय -निकुंज पाली !

सजल रोमों में बिछे हैं पांवड़े मधु स्नात से :
आज जीवन के निमिष भी दूत हैं अज्ञात से :
क्या न अब प्रिय की बजेगी 
मुरलिका मधु -रागवाली ?

मैं बनी मधुमास आली !

पांच 
बीन भी हूँ मैं तुम्हारी रागिनी भी हूँ !

नींद थी मेरी अचल निस्पन्द कण -कण में ,
प्रथम जागृति थी जगत के प्रथम स्पन्दन में ,
प्रलय में मेरा पता पदचिन्ह जीवन में ,
शाप हूँ जो बन गया वरदान बन्धन में :
कुल भी हूँ कुलहीन प्रवाहिनी भी हूँ !

नयन में जिसके जलद वह तृषित चातक हूँ ,
शलभ जिसके प्राण में वह निठुर दीपक हूँ ,
फूल को उर में छिपाये विकल बुलबुल हूँ ,
दूर तुमसे हूँ अखण्ड सुहागिनी भी हूँ !

आग हूँ जिसमें ढुलकते विन्दु हिमजल के ,
शून्य हूँ जिसको बिछे हैं पांवड़े पल के ,
पुलक हूँ वह जो पल कठिन प्रस्तर में ,
हूँ वही प्रतिबिम्ब जो आचार के उर में ,
नील घन भी हूँ सुनहली दामिनी भी हूँ !

नाश भी हूँ मैं अनन्त विकास का क्रम भी ,
त्याग का दिन भी चरम आसक्ति का तम भी ,
तार भी आघात भी झंकार की गति भी ,
पात्र भी मधु भी मधुप भी मधुर विस्मृत भी ,
अधर भी हूँ और स्मित की चाँदनी भी हूँ !

छः 
किस सुधि -वसन्त का सुमन तीर ,
कर गया मुग्ध मानस अधीर ?

वेदना गगन से रजत ओस ,
चू -चू भरती मन -कंज -कोष ,
अलि -सी मंडराती विरह -पीर |

मंजरित नवल मृदु देह डाल ,
खिल -खिल उठता नव पुलक -जाल ,
मधु कन सा छलका नयन -नीर |

अधरों से झरता स्मित पराग ,
प्राणों में गूंजा नेह -राग ,
सुख का बहता मलयज समीर |

धुल -धुल जाता यह हिम -दुराव 
गा -गा उठते चिर मूक -भाव ,
अलि सिहर -सिहर उठता शरीर |
सात -महादेवी वर्मा की हस्तलिपि गद्य रूप में 

ममतामयी महादेवी -कवि यश मालवीय के ज्येष्ठ पुत्र
सौम्य मालवीय को गोद में लिए महादेवी वर्मा 

परिचय -
महादेवी वर्मा छायावाद की महत्वपूर्ण कवयित्री हैं | छायावाद के चार प्रमुख स्तम्भ हैं प्रसाद ,पन्त ,निराला और महादेवी वर्मा | महादेवी वर्मा का जन्म होली के पावन पर्व पर 26 मार्च 1907 को उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जनपद में हुआ था | इस महान कवयित्री का निधन 11 सितम्बर 1987 को इलाहाबाद में हुआ था | बाल विवाह बचपन में हुआ था लेकिन महादेवी ने आजीवन अविवाहित जीवन व्यतीत किया | महादेवी वर्मा गद्य और पद्य दोनों में समान रूप से लोकप्रिय हैं ,हालाँकि उनका गद्य पद्य से भी उत्कृष्ट है | महादेवी वर्मा पूरे  हिंदी जगत में जानी और पहचानी जाती हैं इसलिए हम केवल उनकी दुर्लभ हस्तलिपि कुछ चित्र और कुछ कविताएँ यहाँ दे रहे हैं | होली के दिन महादेवी का जन्म हुआ था और होली उनके अशोक नगर आवास [इलाहाबाद ] पर धूमधाम के साथ मनाई भी जाती थी जिसमें शामिल होना लोग अपना सौभाग्य समझते थे | महादेवी ने रेखाचित्र ,संस्मरण ,निबंध और कविता सभी में सामान लेखन किया है | आज भी अशोक नगर में महादेवी वर्मा का आवास है जहाँ उनके सचिव गंगा प्रसाद पांडे का परिवार रहता है |यही परिवार आजीवन महादेवी वर्मा की देखभाल करता रहा है | गंगा प्रसाद पांडे के पुत्र रामजी पांडे की सुपुत्री आरती मालवीय को महादेवी  बेटी की तरह  प्यार करती थीं , और सुप्रसिद्ध गीत कवि यश मालवीय से उनका विवाह स्वयं महादेवी वर्मा ने सम्पन्न कराया था |महादेवी कुशल चित्रकार भी थीं |महादेवी वर्मा  प्रयाग महिला विद्यापीठ की प्राचार्य थीं | पुरस्कार सम्मान -मंगला प्रसाद पारितोषिक ,भारत भारती ,पद्म विभूषण ,भारतीय ज्ञानपीठ ,उत्तर प्रदेश विधान सभा में नामित सदस्य और साहित्य अकादमी की प्रथम महिला सदस्य | प्रमुख कृतियाँ -गद्य -अतीत के चलचित्र ,श्रृंखला की कड़ियाँ ,स्मृति की रेखाएं ,पथ के साथी ,क्षणदा ,काव्य कृतियाँ -नीहार ,नीरजा ,सांध्यगीत ,दीपशिखा आदि |

विशेष -इस पोस्ट में शामिल चित्र ,हस्तलिपि हमें महादेवी वर्मा न्यास के सचिव ब्रजेश पांडे ने उपलब्ध कराया है | हम श्री पांडे जी के प्रति आभार प्रकट करते हैं | इन चित्रों और हस्तलिपियों का उपयोग बिना लेखक और ब्रजेश पांडे जी की लिखित अनुमति के वर्जित है |

25 टिप्‍पणियां:

  1. bahut khushi hui is prastuti ko padhkar .....thanks nd aabhar...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (24-03-2013) के चर्चा मंच 1193 पर भी होगी. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर पोस्ट है तुषार जी....
    संजो कर रखने योग्य.
    कविताएं और चित्र सभी मनभावन.
    आपका आभार.
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. महत्त्व पूर्ण और संग्रहनीय पोस्ट है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. महादेवी वर्मा जी की कविताएँ ही नहीं उनकी तो कहानियों में भी बहुत जीवन्तता है .... आभार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर कवितायेँ...
    सुन्दर पोस्ट ..
    आभार...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! बहुत ख़ूब! होली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सभी का बहुत -बहुत आभार और होली की शुभकामनाएँ |

    उत्तर देंहटाएं
  9. महादेवी जी की दुर्लभ तस्वीरों को देखना और उनकी हस्तलिपि को पढना बहुत रोमांचक है. आपका धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉ0 जेन्नी शबनम जी आपका भी बहुत -बहुत आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज की ब्लॉग बुलेटिन होली आई रे कन्हाई पर संभल कर मेरे भाई - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर गीतों और चित्रों के लिए आपका हृदय से आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sunder chitra. nirala aur mahadevi ji ek saath yaani ki mahanirala.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप सभी शुभचिंतकों का लगातार उत्साहवर्धन हेतु ह्रदय से आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  15. महादेवी वर्मा की रचना से परिचय हमारा माध्यमिक शिक्षा के पाठ्यक्रम में हुई थी ।आपका कार्य उत्कृष्ट है ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. चित्र दुर्लभ है..बहुत ही सुन्दर कवितायेँ..

    उत्तर देंहटाएं
  17. भाई विकास जी ,भाई विजय वर्मा जी आपका दिल से शुक्रिया |

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर पोस्ट है तुषार जी...

    उत्तर देंहटाएं
  19. Mhadevi Varma ji kavitaon ke to sabhi fan aaj tak
    ...bachpan me Gora gai wali khanai aaj nahi bhula paya hoon tushar ji

    उत्तर देंहटाएं
  20. मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    उत्तर देंहटाएं
  21. क्या कोई इस कविता का (बीन भी हूँ मैं तुम्हारी रागिनी भी हूँ) की व्याख्या दे सकता है। मुझे ये कविता बहुत पसंद है और मुझे इसकी जरूरत भी है।
    कृपया जल्दी जबाव मेरे मेल पर दीजिएगा।
    madhuchanda.chakrabarty@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं