लेबल

बुधवार, 21 दिसंबर 2011

प्रयोगों और प्रतीकों के कवि-सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन अज्ञेय

कवि -अज्ञेय 
समय [07-03-1911से 04-04-1987]
हिन्दी के महान यायावर कवि ,कहानीकार और अप्रतिम उपन्यासकार सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन अज्ञेय का सम्पूर्ण परिचय ब्लॉग पर दे पाना असम्भव नहीं तो कठिन  अवश्य है |अज्ञेय प्रयोगों और प्रतीकों के कवि हैं और भाषा को गढ़ते और रचते भी हैं |विश्व भ्रमण और यायावरी का प्रभाव ,बौद्ध दर्शन का प्रभाव भी उनकी कविताओं में झलकता है |उनकी कविताओं में यथार्थ और आदर्श दोनों मिलते हैं |अज्ञेय हिन्दी के लोकल नहीं बल्कि ग्लोबल कवि हैं |वह जितने कवि हैं उतने ही कथाकार उपन्यासकार |प्रोफेसर बिद्या निवास मिश्र ने अज्ञेय पर सम्पादित पुस्तक में लिखा है --हिन्दी कविता में अज्ञेय का नाम इस प्रकार दुर्निवार बन गया है कि जो लोग इस नाम को निकालना भी चाहते हैं वे भी इस नाम को भूल नहीं पाते |1936-37के आसपास हिन्दी की एक मान्य पत्रिका में यह आदेश दिया गया था कि अज्ञेय की कहानी बिना देखे छापो ,पर कविता अच्छी भी लगे तो नहीं "|अज्ञेय का जन्म 7 मार्च 1911को गोरखपुर के समीप कसया ,कुशीनगर [देवरिया ]और निधन  4अप्रैल  1987 को हुआ |अज्ञेय छात्र जीवन से ही विद्रोही स्वभाव के थे और उसी समय क्रांतिकारियों के सम्पर्क में आ गए थे |नयी कविता के कवियों में अज्ञेय पहले कवि हैं जिन्होंने भाषा के संकुचित केंचुल फाड़कर उसमें नया व्यापक और सारगर्भित अर्थ लाने का अभियान छेड़ा उनकी भाषा ने नवीन अर्थों की अभिव्यक्ति के लिए नया वातावरण सृजित किया |अज्ञेय ने तारसप्तक और नया प्रतीक का सम्पादन कर एक महत्वपूर्ण कार्य किया |अज्ञेय ने फरवरी 1965में उस समय के प्रतिष्ठित साप्ताहिक दिनमान का सम्पादन करना खराब स्वास्थ्य के बावजूद स्वीकार किया |1969 में कैलिफोर्निया विश्व विद्यालय ,बर्कले के द्वारा रीजेंट प्रोफेसर के पद पर सम्मान पूर्वक आमन्त्रित किये गए |अज्ञेय ने विश्व के कई प्रमुख देशों यथा हालैंड ,जर्मनी फ़्रांस इंग्लैंड स्विट्जरलैंड इटली ,ग्रीस ,मैक्सिको ,युगोस्लाविया ,स्वीडन वितनाम ,जापान आस्ट्रेलिया आदि की यात्रायें की |अज्ञेय कवि /लेखक ,पत्रकार सम्पादक ,सेनानी सब कुछ थे |उनका व्यक्तित्व समुद्र की तरह विशाल था |शेखर एक जीवनी उनका एक महत्वपूर्ण उपन्यास है |अज्ञेय का रचना संसार इतना व्यापक है कि यहाँ उनके नाम दे पाना कठिन काम  है काव्य संकलन -भग्नदूत ,चिन्ता ,इत्यलम ,प्रिजन डेज एंड अदर पोयम्स [अंग्रेजी में ]हरी घास पर क्षण भर ,बावरा अहेरी ,इन्द्रधनुष रौंदे हुए ,अरी ओ करुना प्रभामय ,आंगन के पार द्वार ,कितनी नावों में कितनी बार ,क्योंकि मैं उसे जानता हूँ ,सागर मुद्रा ,पहले मैं सन्नाटा बुनता हूँ ,महावृक्ष के नीचे ,नदी की बांक पर छाया ,सदानीरा आदि उपन्यास शेखर एक जीवनी प्रथम और द्वितीय  भाग ,नदी के द्वीप ,अपने -अपने अजनबी |कहानियाँ -विपथगा ,परम्परा ,कोठरी की बात ,शरणार्थी ,जयदोल ,अमरवल्लरी ,ये तेरे प्रतिरूप ,कड़ियाँ आदि यात्रावृत अरे यायावर रहेगा याद ,एक बूंद सहसा उछली |ललित निबन्ध सबरंग ,सबरंग और कुछ राग ,कहाँ है द्वारका और छाया का जंगल आदि आज अज्ञेय के काव्य समुद्र से कुछ मोती हम आप तक पहुँचा रहे हैं |नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाओं के साथ -
प्रयोगों और प्रतीकों के कवि- अज्ञेय 
नन्दा देवी 

नन्दा देवी 
बीस -तीस -पचास वर्षों में 
तुम्हारी वन-राजियों की लुगदी बनाकर 
हम उस पर 
अखबार छाप चुके होंगे '
तुम्हारे सन्नाटे को चींथ रहे होंगे 
हमारे धुँधुआते शक्तिमान ट्रक ,
तुम्हारे झरने -सोते सूख चुके होंगे 
और तुम्हारी नदियाँ 
ला सकेंगी केवल शस्य -भक्षी बाढ़ें 
या आंतों को उमेठने वाली बीमारियाँ 
तुम्हारा आकाश हो चुका होगा 
हमारे अतिस्वन विमानों का गुंझर 

नन्दा 
जल्दी ही 
बीस -तीस -पचास वर्षों में 
हम तुम्हारे नीचे एक मरु बिछा चुके होंगे 
और तुम्हारे उस नदी -धौत सीढ़ी वाले मन्दिर में 
जला करेगा 
एक मरू -द्वीप !
खुल गयी नाव 
खुल गयी नाव 
घिर आयी संझा ,सूरज 
डूबा सागर- तीरे |

धुंधले पड़ते से जल -पंछी 
भर धीरज से 
मूक लगे मँडराने ,

सूना तारा उगा 
चमक कर
 साथी लगा बुलाने |

तब फिर सिहरी हवा 
लहरियाँ कॉपीं 
तब फिर मूर्छित 
व्यथा विदा की 
जागी धीरे -धीरे |
हिरोशिमा 
एक दिन सहसा 
सूरज निकला 
अरे क्षितिज पर नहीं 
नगर के चौक :
धूप बरसी 
पर अन्तरिक्ष से नहीं 
फटी मिट्टी से 
छायाएँ मानव-जन से 
दिशाहीन 
सब ओर पडीं -वह सूरज 
नहीं उगा था पूरब में ,वह 
बरसा सहसा 
बीचों -बीच नगर के :
काल -सूर्य के रथ के 
पहियों के ज्यों अरे टूटकर 
बिखर गये हों 
दासों दिशा में |

कुछ क्षण का वह उदय -अस्त 
केवल एक प्रज्ज्वलित क्षण की 
दृश्य सोख लेने वाली दोपहरी 
फिर ?
छायाएँ मानव-जन की 
नहीं मिटीं लम्बी हो -हो कर :
मानव ही सब भाप हो गये |
झुलसे हुए पत्थरों पर 
उजड़ी सड़कों की गच पर |
मानव का रचा हुआ सूरज 
मानव को भाप बनाकर सोख गया |
पत्थर पर लिखी हुई यह 
जली हुई छाया 
मानव की साखी है |
मरुथल में चट्टान 
चट्टान से टकरा कर 
हवा 
उसी के पैरों में लिख जाती है 
लहरीले सौ -सौ रूप 

और तुम्हारे रूप की चट्टान से 
लहराता टकरा कर मैं ?
अपने ही जीवन की बालू पर 
अपनी सांसों से लिखा रह जाऊंगा |
मैं ने देखा ,एक बूंद 
मैं ने देखा 
एक बूंद सहसा 
उछली सागर के झाग से :
रंग गयी क्षण -भर 
ढलते सूरज की आग से |

मुझको दीख गया ;
सूने विराट के सम्मुख 
हर अलोक -छुआ अपनापन 
है उन्मोचन 
नश्वरता के दाग से |
आज मैं ने 
आज मैं ने पर्वत को नयी आँखों से देखा |
आज मैं ने नदी को नयी आँखों से देखा |
आज मैं ने पेड़ को नयी आँखों से देखा |

आज मैं ने पर्वत ,पेड़ ,नदी ,निर्झर ,चिड़िया को 
नयी आँखों से देखते हुए 
देखा कि मैं ने उन्हें तुम्हारी आँखों से देखा है |

यों मैं ने देखा 
कि मैं कुछ नहीं  हूँ |
[हाँ ,मैं ने यह भी देखा 
कि तुम भी कुछ नहीं हो |]
मैं ने देखा कि हर होने के साथ 
एक न -होना बंधा है 

और उस का स्वीकार ही बार -बार 
हमें हमारे होने की ओर लौटा जाता है 
उस होने को एक प्रभा -मंडल से मढ़ता हुआ |

आज मैं ने अपने प्यार को 
जो कुछ है और जो नहीं है उस सब के बीच 
प्यार के एक विशिष्ट आसन पर प्रतिष्ठित देखा |
[तुम्हारी आँखों से देखा ]
आज मैं ने तुम्हारा 
एक आमूल नये प्यार से अभिषेक किया 
जिस में मेरा ,तुम्हारा और स्वयं प्यार का 
न होना भी है वैसा ही अशेष प्रभा -मंडित 
आज मैं ने 
तुम्हें 
प्यार किया ,प्यार किया ,प्यार किया .....
सांप 
सांप !तुम सभ्य तो हुए नहीं -
नगर में बसना भी तुम्हें नहीं आया |
एक बात पूछूं [उत्तर दोगे ?]
तब कैसे सीखा डसना -विष कहाँ पाया ?
बाँहों में लो 
ऑंखें मिली रहें 
मुझे बाँहों में लो 
यह जो घिर आया है 
घना मौन 
छूटे नहीं 
कांप कर जुड़ गया है 
तना तार /टूटे नहीं 
यह जो लहक उठा 
घाम ,पिया 
इस से मुझे छाहों में लो !
ऑंखें यों अपलक मिली रहें 
पर मुझे बाँहों में लो !
अज्ञेय की हस्तलिपि -यह हस्तलिपि /आटोग्राफ [श्रीरंजन शुक्ल  श्रीलाल शुक्ल जी के भतीजे हैं और इस समय इलाहाबाद संग्रहालय में अधिकारी हैं ]हमें आदरणीय श्री रंजन शुक्ल जी के द्वारा प्राप्त हुई है हम उनके आभारी हैं |

22 टिप्‍पणियां:

  1. अज्ञेय की दुर्लभ हस्तलिपि के दर्शन कराने का बहुत आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अज्ञेय की रचनायें गहरे प्रभावित करती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सांप !तुम सभ्य तो हुए नहीं -
    नगर में बसना भी तुम्हें नहीं आया |
    एक बात पूछूं [उत्तर दोगे ?]
    तब कैसे सीखा डसना -विष कहाँ पाया ?

    .kabhi school mein kuch rachnayen padhi thi unmein yah bhi panktiyan thi., jise dekh yaad aa gayee.
    अज्ञेय ji ki chinnda rachna prastuti hetu aabhar!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अज्ञेय जी के बारे में लिखना कितना कठिन हुआ होगा, इसे आपकी पोस्ट को पढ़ कर महसूस किया जा सकता है

    शब्दों के जादूगरों को किन शब्दों में बाँधा जाए यह आपसे सीखता हूँ

    इस पोस्ट के लिए विशेष धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. "अज्ञेय" रूपी काव्यसागर से मोती चुने है आपने बहुत ही सुन्दर और ज्ञानवर्धक प्रयास ! धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर अभिव्यक्ति बेहतरीन रचना,.....
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,....

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    उत्तर देंहटाएं
  7. नववर्ष की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. काव्य के चितेरे अज्ञेय जी को पढवाया .शुक्रिया .नववर्ष मंगल मय होवे .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर और ज्ञानवर्धक प्रयास| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी सुंदर प्रस्तुति,
    बहुत दिनों से कुछ नही लिखा और न ही मेरे पोस्ट पर आये,
    new post--काव्यान्जलि : हमदर्द.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. अज्ञेय का लेखन हमेशा ही चमत्कृत करता है...उनकी रचनाएं यहाँ शेयर करने का शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  12. न मानने वाले न माने किन्तु अज्ञेय हिन्दी के महत्वपूर्ण कवि हैं ही।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अज्ञेय हमेशा ही मुझे मुग्ध कर देते हैं...उनकी रचनाएँ देने के लिए धन्यवाद...आपका ब्लॉग काफी समृद्ध है.अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अज्ञेय जी के बारे में जानकर व उनकी रचनाएं
    पढकर अच्छा लगा,

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण अच्छी रचना,..

    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुन्दर प्रस्तुति.

    गणतंत्र दिवस की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,

    उत्तर देंहटाएं
  17. उत्तम कोटि के कवि की रचनाओं ने कहीं बहुत गहरे छू लिया .
    शुक्रिया तुषार जी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. आप सभी का इस पोस्ट पर आकर अपना अमूल्य समय और टिप्पणी देने के लिए बहुत -बहुत आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत-बहुत धन्यवाद...

    उत्तर देंहटाएं